Skip to content

digital marketing in hindi in 2021+free course

digital marketing in hindi

 

Introduction

डिजिटल मार्केटिंग आपने यह शब्द तो सुना ही होगा  और अगर आप इस विषय के बारे में नहीं जानते और इसे अपने लिए काम में नहीं लेते तो हो सकता है की आप ज़माने के साथ नहीं चल रहे है, डिजिटल मार्केटिंग ने मार्केटिंग में एक क्रांति ला दी है। इसलिए हमने आप के लिए इस विषय के बारे में जागरूक करने के लिए ये blogबनाया है इसमें हमने बताया है –
1. डिजिटल मार्केटिंग क्या है?
2. डिजिटल मार्केटिंग में और ट्रडिशनल मार्केटिंग में क्या अंतर है?
3. डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार+digital marketing free course in hindi
4. डिजिटल मार्केटिंग पर अकसर किये जाने वाले सवाल
5. डिजिटल मार्केटिंग के उपयोग,उसकी जरुरत और उसके फायदे

6. निष्कर्ष

digital marketing in hindi

डिजिटल मार्केटिंग दो शब्दो से मिलकर बना है – डिजिटल का सामान्य अर्थ इंटरनेट होता है और मार्केटिंग का मतलब विज्ञापन होता है। डिजिटल मार्केटिंग आज के युग में मार्केटिंग में बहुत बड़ा बदलाव लाया है। किसी भी उत्पाद को इंटरनटे के माध्यम से विज्ञापन करना ही डिजिटल मार्केटिंग कहलाता है।
जैसे की – youtube ads,affiliate marketing, dropshipping,social media marketing आदि ।

उच्च स्तर पर,
डिजिटल मार्केटिंग डिजिटल चैनलों जैसे search engine, website, social media, ईमेल और मोबाइल apps के माध्यम से वितरित विज्ञापन को संदर्भित करता है। इन ऑनलाइन मीडिया चैनलों का उपयोग करके, डिजिटल मार्केटिंग की जाती है। उपभोक्ताओं(customers) को उत्पादों के शोध के लिए डिजिटल साधनों पर बहुत भरोसा होता हैं। उदाहरण के लिए, Google मार्केटिंग ।
अंतर्दृष्टि के साथ सोचें कि 48% उपभोक्ता search engine पर अपनी पूछताछ शुरू करते हैं, जबकि 33% branded वेबसाइटों और मोबाइल apps के भीतर 26% उत्पाद देखते हैं।

कुछ बहतरीन motivational quotes in hindi


डिजिटल मार्केटिंग में और ट्रडिशनल मार्केटिंग में क्या अंतर है?

SR. NOTRADITIONAL MARKETINGDIGITAL MARKETING
1.ऑफलाइन मार्केटिंग में विज्ञापन के लिए जो पहले चले आ रहे तरीको का उपयोग किया जाता है जैसे बैनर्स etc.डिजिटल मार्केटिंग का तात्पर्य डिजिटल चैनलों, जैसे इंटरनेट, स्मार्टफोन, डिस्प्ले विज्ञापनों और अन्य डिजिटल माध्यमों के माध्यम से उत्पादों और सेवाओं के विपणन से है।
2. यह कम प्रभावी है।यह ज्यादा प्रभावी है।
3.इसमें दर्शक ग्राहक में धीरे बदलते है।इसमें दर्शक ग्राहक उसके मुकाबले जल्दी बदलते है।
4.यह महंगा है।यह सस्ता है।
5.इसमें हमें जो ROI मिलता है वह मापा नहीं जा सकता ।इसमें हमें जो ROI मिलता है वह मापा जा सकता ।
6.इसके असर का परिणाम लेट आता हैइसके असर का परिणाम जल्दी और सटीक आता है
7.दर्शको को ads को देखना ही पड़ता है वे इसे skip नहीं कर सकते ।दर्शको को ads को देखना जरुरी नहीं है है वे इसे skip कर सकते ।

कुछ बहतरीन business ideas जो बिना पैसो के और बहुत ही कम लागत से शुरू किए जा सकते है जिनसे आप महीने के कम के कम 100000rs आराम से कमा सकते है – बिज़नेस ideas

डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार [Types of Digital Marketing]+digital marketing free course in hindi

1.Search engine optimization (SEO)

SEO का मतलब search engine optimization है, जो organic सर्च इंजन परिणामों के माध्यम से आपकी वेबसाइट पर ट्रैफ़िक की मात्रा और गुणवत्ता बढ़ाने का अभ्यास है।इससे आप अपनी वेबसाइट को google में rank करा सकते जिससे आपको ज्यादा और बेहतर ट्रैफिक मिलता है।

2. Search engine marketing (SEM)
SEM यह SEO की तरह ही है बस इसमें आपको प्रति click पर भुगतान करना होगा और जब तक आप भुगतान करते रहेंगे तब तक आपकी वेबसाइट Google में सबसे ऊपर रहेगी। यहाँ से आप अच्छा traffic generate कर सकते हो। आप इसे google adsence की मदद से कर सकते है।

3.Content marketing
कंटेंट मार्केटिंग में महत्वपूर्ण content बनाया जाता है और उसे relevant person को distribute किया जाता है जो कंटेंट उसके काम में आये और यह काम निरंतर रूप से किया जाये ताकि इससे हम ज्यादा audience को अपनी तरफ आकर्षित कर सके और उनको buyer में convert करे उसे ही कंटेंट मार्केटिंग कहते है

4.Social Media Marketing (SMM)
सोशल मीडिया platforms और सोशल मीडिया networks के जरिए किसी company के प्रोडक्ट और service की मार्केटिंग को ही सोशल media मार्कटिंग कहते है

5. Pay-per-click advertising (PPC)
PPC एक ऑनलाइन विज्ञापन मॉडल है जिसमें एक विज्ञापनदाता(advertiser) हर बार एक विज्ञापन लिंक पर “क्लिक” होने पर एक प्रकाशक(publisher) को भुगतान करता है।
जैसे – google ads,facebook ads and twitter ads

6. Affiliate marketing
एफिलिएट मार्केटिंग में किसी companyके प्रोडक्ट और service को प्रमोट(promote) किया जाता जिसमे एक marketer को एफिलिएट लिंक प्रदान की जाती है,उस लिंक से कोई भी sale होने पर उसे उस उत्पाद का निर्धारित commission दिया जाता है।
Ex. Amazon affiliate and flipkart affiliate etc.


7.Email marketing
ईमेल marketing में अपने “email subscribers” को commercial email भेजी जाती है ताकि उनको अपने बारे में और अधिक अवगत करा सके।इसमें आपको कोई पैसे invest करने की जरुररत नहीं है।


डिजिटल मार्केटिंग पर अकसर किये गए सवाल –

1. डिजिटल मार्केटिंग क्या है?
डिजिटल मार्केटिंग डिजिटल चैनलों के माध्यम से वितरित विज्ञापन है। सोशल मीडिया, मोबाइल एप्लिकेशन, ईमेल, वेब एप्लिकेशन, सर्च इंजन, वेबसाइट्स, या किसी भी नए डिजिटल चैनल आदि ।

2. डिजिटल मार्केटिंग का भविष्य क्या है?
ऑफ़लाइन और ऑनलाइन दुनिया टकरा रही है। छोटे से लेकर बड़े-बड़े उत्पाद सब internet se बिक रहे है। आज सब ऑनलाइन की तरफ जा रहे है क्युकी यह डिजिटल युग है और आगे के समय में डिजिटल मार्केटिंग की बहुत डिमांड बढ़ने का अनुमान है ।

3. डिजिटल मार्केटिंग क्यों मायने रखता है?

Google और फेसबुक किसी भी पारंपरिक मीडिया कंपनी की तुलना में अधिक राजस्व उत्पन्न करते हैं क्योंकि वे अधिक लोगो के द्वारा पसंद किये जाते है । डिजिटल मार्केटिंग के फायदे

4. डिजिटल मार्केटिंग के कोनसे चैनल है?
Search engines, social media, blogs, online ads, affiliate marketing, emails, and mobile apps.


डिजिटल मार्केटिंग के उपयोग,उसकी जरुरत और उसके फायदे –

digital marketing in hindi

1.वैश्विक पहुंच (global reach)– एक वेबसाइट आपको केवल एक छोटे से निवेश से आपको नए बाजार खोजने और वैश्विक स्तर पर व्यापार करने की अनुमति देती है।

2. कम लागत – एक उचित रूप से नियोजित और अच्छी तरह से लक्षित डिजिटल मार्केटिंग अभियान traditional मार्केटिंग विधियों की तुलना में बहुत कम लागत पर सही ग्राहकों तक पहुँचता है।

3. ट्रैक करने योग्य, मापने योग्य परिणाम web analytics और अन्य ऑनलाइन मीट्रिक टूल के साथ अपने ऑनलाइन मार्केटिंग को मापने से यह पता लगाना आसान हो जाता है कि आपका अभियान कितना प्रभावी रहा है। आप इस बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं कि ग्राहक आपकी वेबसाइट का उपयोग कैसे करते हैं या आपके विज्ञापन पर क्या प्रतिक्रिया करते हैं।

4. वैयक्तिकरण(personalisation) – यदि आपका ग्राहक डेटाबेस आपकी वेबसाइट से जुड़ा हुआ है, तो जब भी कोई site पर जाता है, तो आप लक्षित प्रस्तावों के साथ उनका स्वागत कर सकते हैं। जितना अधिक वे आपसे खरीदते हैं, उतना ही आप अपने ग्राहक प्रोफाइल और बाजार को प्रभावी ढंग से परिशोधित कर सकते हैं।

5.खुलापन – सोशल मीडिया से जुड़कर और इसे सावधानी से प्रबंधित करके, आप ग्राहक वफादारी बना सकते हैं और आसानी से जुड़ने के लिए प्रतिष्ठा बना सकते हैं।

6.सामाजिक मुद्रा(social currency) – डिजिटल मार्केटिंग से आप सामग्री विपणन(marketing) रणनीति का उपयोग करके आकर्षक अभियान बना सकते हैं। यह सामग्री (photos, video, articles) सामाजिक मुद्रा प्राप्त कर सकती है – उपयोगकर्ता(user) से उपयोगकर्ता (user) तक पहुंचाई जा रही है और वायरल हो रही है।

7. बेहतर रूपांतरण दरें(conversion rate) – यदि आपके पास एक वेबसाइट है, तो आपके ग्राहक खरीदारी करने से केवल कुछ ही क्लिक दूर हैं। अन्य मीडिया के विपरीत, जिसमें लोगों को उठने और फोन करने, या किसी दुकान पर जाने की आवश्यकता होती है, डिजिटल मार्केटिंग से यह काम सहज और तत्काल हो सकती है।


निष्कर्ष

डिजिटल मार्केटिंग भविष्य की मार्केटिंग है। इस लेख में हमने जिन सभी लाभों पर चर्चा की है। आप अपने डिजिटल मार्केटिंग प्रयासों के परिणामों को अविश्वसनीय सटीकता के साथ ट्रैक कर सकते हैं, जिसका अर्थ है कि यह देखना आसान है कि कौन सी रणनीतियाँ लाभदायक परिणाम दे रही हैं ।
संयोग से, यदि इस लेख ने आपको आश्वस्त किया है कि आपको डिजिटल मार्केटिंग की आवश्यकता है (या अपने डिजिटल मार्केटिंग content में कुछ और बढ़ाने की आवश्यकता है), लेकिन आप सही दृष्टिकोण की पहचान करने में कुछ मदद चाहते हैं, तो हमें यहां टिप्पणियों(comment)में बताएं! हम डिजिटल मार्केटिंग के साथ व्यवसायों को बढ़ने में मदद करना पसंद करते हैं।
 डिजिटल मार्केटिंग के बारे में अतिरिक्त प्रश्न हैं? comment में क्या है मुझे जानने दें!
यदि यहाँ कुछ छूट गया हो तो कमेंट में हमें सूचित करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: